Vikalp Varta on Urban Agriculture

Organised by: Vikalp Sangam

Co-organiser: People’s Resource Centre

Recording of the session can be watched here:  Vikalp Varta#20 Urban Agriculture

Urban Agriculture

Today, life in the city is full of comforts and challenges but there is no peace of mind. This restlessness in urban life is pushing people towards urban agriculture in search of relaxation, in harmony with nature. This is a new beginning as well as an opportunity to embark on an alternative path.

Speakers
1. Aditi Deodhar founded the Brown Leaf Forum in 2016 with the aim of not letting dried leaves burnt anywhere in India. She is also the founding director of Jeevit Nadi (Living River).

2. Priya Bhide – started soil-less terrace gardening in 2006 using only the leaves and green waste.

3. Rajendra Ravi –  active on various aspects of urban transport, agriculture and self-reliance for several decades; with National Alliance of People’s Movements (NAPM), Institute for Democracy and Sustainability (IDS) and People’s Resource Center (PRC).
शहरी कृषि

आज शहर की जिन्दगी में सुविधायों का अम्बार और चुनौतीयां  दोनों  है,  लेकिन शकुन नही | ऐसे में लोग शकुन की तलाश में शहरी कृषि की और अग्रसर हो रहे हैं जहाँ वे प्रकृति के साथ अकेकार होकर  जीवन  में आनंद की अनुभूति का अहसास कर सकें| नए शुरुआत के साथ एक वैकल्पिक पथ पर निकलने का अवसर भी!

वक्ता

1. अदिति देवधर – भारत मे कहीं भी सुखी पत्तियों को न जलाया जाये, इस उद्देश्य के साथ 2016 मे इन्होंने ब्राउन लीफ फोरम की स्थापना की । वे जीवित नदी – लिविंग रिवर के फाउंडर डायरेक्टर भी है ।

2. प्रिया भिड़े – 2006 में मिट्टी रहित टेरेस गार्डिनिंग की शुरूआत की जिसमें सिर्फ पतीयों और हरित वेस्ट का ही इस्तेमाल होता है ।
3. राजेन्द्र रवि –  कई दशकों से शहरी परिवहन, कृषि और आत्मनिर्भर शहर के विभिन्न आयामों पर सक्रिय। जन-आंदोलनों का राष्ट्रीय समन्यव, इंस्टीट्यूट फ़ॉर डेमोक्रेसी एंड सस्टैनबिलिटी, तथा पीपुल रिसोर्स सेन्टर के साथ संबंध ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to top