फार्मिंग द सिटी 2021- पहला दिन

सत्र-1   विषय: नई शहरियत के लिए दिशाएँ फार्मिंग द सिटी-21 का पहला सत्र इस विषय पर केंद्रित होगा कि आधुनिक पूंजीवादी शहर कई प्रकार के संकटों के वाहक हैं और उनका इस स्वरूप को बड़े पैमाने पर हो रही बेदखली और पर्यावरणीय गिरावट के रूप...

शहरी खेती में मजदूरों की भूमिका

To read this booklet in English, please click here. दिल्ली भारत के उन प्रदेशों में शामिल है, जहां खेती में मशीनीकरण की शुरुआत सबसे पहले हुई । इसके बावजूद आज भी कृषि में मजदूरों की जरूरत किसी न किसी स्तर पर होती ही है ।...

शहरी खेती में कचरे का सही उपयोग

To read this booklet in English, please click here. “शहरों की सफाई का बोझा कई नदी-तालाब ढो रहे हैं. मैले पानी से अटे जल स्रोतों में दुर्गन्ध है ऐसे समाज की, जो अपनी सुविधा के लिए किसी भी हद तक जा सकता है… जो अपने...

प्रतिरोध और उम्मीद के बीज

प्रतिरोध और उम्मीद के बीज: शहरी खेती पर एक अंतर्राष्ट्रीय संवाद जन संसाधन केंद्र आपको आमंत्रित करता है लेबनान, सीरिया, फिलिस्तीन और भारत के पर्यावरण कार्यकर्ताओं और शहरी किसानों के बीच एक बातचीत में। [ज़ूम लिंक: https://us02web.zoom.us/j/85220747860?pwd=R0UyblcxN0NXekNiYitETFhkNk9KQT09] ऐसे समय में जब दुनिया जलवायु और जनस्वास्थ्य...

Scroll to top